फिटर प्रथम वर्ष (Fitter Theory 1st Year)

Admin bar avatar
adminglobal
Fitter Theory
Free
फिटर प्रथम वर्ष (Fitter Theory 1st Year) 1
  • 5 lessons
  • 4 quizzes
  • 90 day duration

03-Hand Tools हस्त औजार भाग 01

सामान्य हस्त औजार Common Hand Tools

कार्यशाला में जॉब पर बहुत-सी प्रक्रियाए की जाती है, जिसके लिए हस्त औजार (Hand Tools) अतिआवश्यक होते है ; जैसे- वाइस, हैक्सा, हथौड़ा, प्लायर, रिंच, स्पैनर, चीजल, फाइल आदि। इस अध्याय के अंर्तगत हम इन्ही औजार के बारे में अध्ययन करेंगें।

वाइस (Vice)-

  • वर्कशॉप में वाइस का प्रयोग कार्यखण्ड को मजबूती से पकड़ने के लिए किया जाता है।
  • यदि किसी जॉब को काटना हो या फाइलिंग करना हो, तो पहले उसे मजबूती से पकड़ने की आवश्यकता होती हैं और मजबूती से पकड़ने के लिए वाइस का प्रयोग किया जाता है।

वाइस के प्रकार (Types of  Vice)-

Vice is also a type of Hand Tools- यह निम्न प्रकार की होती है-

  1. बेंच वाइस
  2. मशीन वाइस
  3. हैण्ड वाइस
  4. पाइप वाइस
  5. पिन वाइस
  6. टूल मेकर्स वाइस
  7. लैग वाइस

1.बेंच वाइस-

  • इसकी बॉडी साधारणत: कास्ट आयरन की बनी होती हैं।
  • वाइस का साइज़ जबड़े की चौड़ाई से लिया जाता है।
  • इस वाइस के स्पिंडल तथा नट में वर्गाकार चूड़ी (Square Thread) कटी होती हैं।
  • वाइस की फर्श से ऊंचाई कारीगर के कोहनी (Elbow) तक या 105 cm या 1 मीटर या 3.5 फुट या 42 इंच होनी चाहिए।
  • बेंच वाइस के जबड़े (Jaw) समान्तर खुलते हैं।

अब हम बेंच वाइस के अलग-अलग पार्ट के बारे में अध्ययन करेंगे कि कौन-सा पार्ट किस पदार्थ का बना होता है –

  • फिक्स्ड जॉ – ग्रे कास्ट आयरन
  • मूवेबल जॉ – ग्रे कास्ट आयरन
  • जॉ प्लेट – टूल स्टील या हाई कार्बन स्टील
  • हैंडल और स्पिंडल – माइल्ड स्टील
  • बॉक्स नट – गन मेटल या कास्ट आयरन या फॉस्फर ब्रोंज

2.मशीन वाइस-

  • इसकी बॉडी भी कास्ट आयरन की बनी होती है।
  • मशीन वाइस की ऊंचाई बेंच वाइस की तुलना में काफी कम होती हैं, जबकि जॉ की चौड़ाई अधिक होती हैं।
  • इसका प्रयोग मिलिंग या ड्रिलिंग ऑपरेशन करते समय जॉब को पकड़ने के लिए किया जाता हैं।
  • इसके जबड़े भी समांतर में खुलते हैं।

3.हैण्ड वाइस-

  • हैण्ड वाइस अधिकतर माइल्ड स्टील की बनी होती है।
  • इसका साइज़ रिवेट के सेंटर से जॉ तक की सीधी दूरी द्वारा लिया जाता हैं।
  • इसका प्रयोग ड्रिलिंग मशीन पर पतली चादर में ड्रिल करते समय चादर को पकड़ने के लिए किया जाता हैं या ग्राइंडिंग मशीन पर ग्राइंडिंग करते समय जॉब को पकड़ने या कील आदि को पकड़ने में किया जाता है।
  • हैण्ड वाइस के जबड़े गोलाई में खुलते हैं।

4.पाइप वाइस-

  • इसकी बॉडी भी कास्ट आयरन की बनी होती हैं।
  • इसका साइज़ इसके जॉ द्वारा पकडे जाने वाले बड़े से बड़े पाइप के अधिकतम व्यास से लिया जाता हैं।
  • इसके दोनों जबड़ो में 90 डिग्री का ग्रूव होता हैं।
  • इसका प्रयोग गोल पाइप व छड़ आदि को पकड़ने के लिए किया जाता हैं।
  • यह जॉब को 4 बिंदु (Point) से पकड़ता हैं।

5.पिन वाइस-

  • यह स्टील की बनी होती हैं।
  • पिन वाइस काफी पतली होती है अतः यह हाथ में पकड़ते समय स्लिप न करे इसीलिए इसकी बॉडी पर नर्लिंग की गयी होती हैं।
  • इसका प्रयोग महीन या तारनुमा जॉब जैसे- सुई, तार, घड़ी के महीन पार्ट्स आदि पकड़ने के लिए किया जाता हैं।

6.टूल मेकर्स वाइस-

  • यह भी स्टील की बनी होती है तथा साइज़ में काफी छोटी होती हैं।
  • इसके जॉ प्लेन होते है, जिससे जॉब की सतह पर निशान नही आते। इसलिए इनका प्रयोग जॉब की फिनिशिंग कार्यो में होता हैं।

7.लैग वाइस-

  • इसकी बॉडी माइल्ड स्टील या रॉट आयरन की बनी होती हैं।
  • इसका प्रयोग भारी कार्यखंडो को पकड़ने के लिए किया जाता हैं।
  • इसके स्पिंडल तथा नट में बटरेस थ्रेड कटा होता हैं।
  • इसके जबड़े गोलाई में खुलते हैं।

हैण्डल घुमाने पर वाइस के न खुलने का कारण- हैण्डल घुमाने पर वाइस के जबड़ो के न खुलने के निम्नलिखित कारण हो सकते हैं-

  • गाइड नट का टूटा होना।
  • गाइड नट की चूड़िया ख़राब होना।
  • गाइड नट का पेंच (Screw) टूट गया हो।
  • काटर पिन का टूटना या निकल जाना।

वाइस क्लैम्प (Vice Clamp)-

  • यह मुलायम पदार्थ जैसे- माइल्ड स्टील, कॉपर, एल्युमीनियम, पीतल आदि के बनाये जाते हैं।
  • इसका प्रयोग फिनिश जॉब को पकड़ने के लिए किया जाता हैं जिससे जॉब पर जॉ प्लेट्स के दाँतों के निशान न आये। इसलिए इन जॉ प्लेट्स के उपर मुलायम धातु का वाइस क्लैम्प लगाया जाता हैं।

वाइस क्लैम्प के प्रकार (Types of Vice Clamp)-

  1. ‘C’ क्लैम्प-
  • इसकी आकृति ‘C’ के जैसी होती है।
  • इसका फ्रेम कास्ट आयरन का बना होता हैं।
  • इसका प्रयोग टेपर या टेढ़े-मेढ़े जॉब को पकड़ने के लिए किया जाता हैं।
  1. प्लेन वाइस क्लैम्प-
  • इसके जबड़े आगे की ओर 90 डिग्री पर मुड़े होते हैं।
  • इसका प्रयोग साधारण जॉब को पकड़ने के लिए करते है।
  1. हाफ राउंड वाइस क्लैम्प-
  • इसके जॉ में अर्द्ध-गोलाई में खांचे कटे होते हैं।
  • इसमें धातु की रॉड को मजबूती से पकड़ा जा सकता हैं।
  1. ‘U’ वाइस क्लैम्प-
  • यह ‘U’ आकार में बना होता हैं।
  • इसमें गोल पाइप या रॉड को क्षैतिज रूप में मजबूती से पकड़ा जा सकता हैं।
  1. ‘V’ वाइस क्लैम्प-
  • इसके जॉ में ‘V’ आकृति के खाँचे कटे होते हैं।
  • इसमें गोल पाइप या रॉड को लम्ब रूप में मजबूती से पकड़ा जा सकता हैं।
  1. टूल मेकर या समान्तर क्लैम्प-
  • इस क्लैम्प का प्रयोग फिनिश किये गये जॉब पर मार्किंग या ड्रिलिंग करते समय उन्हें पकड़ने के लिए किया जाता हैं।

यह अध्याय Common Hand Tools आगे भी जारी रहेगा।

श्रेय- कुछ अंक अरिहंत प्रकाशन द्वारा प्रकाशित फिटर सिद्धांत पुस्तक से लिए गए हैं।

 

Fitter Common Hand Tools की विडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक कीजिये।

एम्प्लोयबिलिटी स्किल्स की स्टडी के लिए यहाँ क्लिक कीजिये।

Leave a Reply